अखिलेश यादव के बाद तेज बहादुर को मिला केजरीवाल का साथ, दिया बड़ा बयान

उत्तर प्रदेश में लोक सभा चुनाव के चलते केंद्र में सत्तारूढ़ भारतीय जनता पार्टी को हराने के लिए उत्तर प्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री और समाजवादी पार्टी के अध्यक्ष अखिलेश यादव ने बसपा के साथ गठबंधन करके सियासी गलियारों में भूचाल ला कर रख दिया था। गौरतलब है कि उत्तर प्रदेश की राजनीति में यह दोनों पार्टियां धुर विरोधी मानी जाती है। लेकिन केंद्र की राजनीति का सफर तय करने के लिए इन दोनों ने गठबंधन करने का अहम फैसला लिया।खबर सामने आ रहे हैं कि अखिलेश यादव ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को घेरने के लिए वाराणसी से अपना उम्मीदवार बदल लिया है। खबर के मुताबिक वाराणसी से समाजवादी पार्टी ने बीएसएफ के पूर्व जवान तेज बहादुर यादव को टिकट दी है।पहले समाजवादी पार्टी ने वाराणसी लोकसभा सीट से कांग्रेस की पूर्व नेता शालिनी यादव को टिकट जारी किया था। लेकिन प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को वाराणसी लोकसभा सीट से चुनौती देने के लिए सपा अध्यक्ष अखिलेश यादव ने अपना फैसला बदल लिया है। आपको बता दें कि इस मामले में आम आदमी पार्टी के मुखिया और दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने भी सपा अध्यक्ष अखिलेश यादव के इस फैसले का स्वागत करते हुए समाजवादी पार्टी को बधाई दी है। मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने सोशल मीडिया साइट ट्विटर पर एक ट्वीट कर कहा है कि ‘अखिलेश जी, आपको बहुत बहुत बधाई। PM को चुनौती देने के लिए तेज बहादुर को सलाम। एक तरफ मां भारती के लिए जान दांव पर लगाने और जवानों के हक की लड़ाई में अपनी नौकरी गंवाने वाला शख्स, दूसरी ओर जवानों की आवाज उठाने वाले की नौकरी छीनने और जवानों की लाशों पर वोट मांगने वाला शख्स।’आपको बता दें कि बीएसएफ के पूर्व जवान तेज बहादुर यादव ने इस लोकसभा चुनाव में पहले निर्दलीय उम्मीदवार के तौर पर वाराणसी में नामांकन दाखिल किया था। लेकिन कल सपा की ओर से ऐलान किया गया कि सेना के जवान तेज बहादुर यादव को वाराणसी से समाजवादी पार्टी का टिकट दिया गया है। इसके बाद तेज बहादुर यादव ने सपा के सिंबल पर अपना नामांकन दाखिल किया।

SHARE