अब कांग्रेस में भी होने लगी है साधू संतों की इंट्री, चुनावी मैदान में उतरने को तैयार कई बाबा

मध्य प्रदेश में चुनावों की तारीख का ऐलान होने के बाद जैसे जैसे चुनावी तारीखें नज़दीक आती जा रही हैं, वैसे वैसे राजनीतिक उथल पुथल बढ़ने लगी है। जहां एक तरफ कई लोग बीजेपी को साधू संतों की पार्टी कहती है। वहीं, अब मध्य प्रदेश के मुख्य विपक्षी दल कांग्रेस में भी टिकट की जुगाड़ लगाने के लिए बाबाओं की दखलअंदाजी शुरु हो गई है।

कई जगहों पर बाबा खुद अपनी अपनी प्रबलता वाले इलाकों से विधानसभा चुनाव के लिए पार्टी से टिकट मांग रहे हैं, तो वहीं कई जगहों पर बाबा टिकट की दावेदारी करने वाले उम्मीदवारों की पार्टी में सिफारिश कर रहे हैं, जिसके लिए दावेदार बाबाओं के साथ पार्टी मुख्यालय के चक्कर भी काट रहे हैं।

पार्टी कार्यालय के चक्कर काट रहे हैं बाबा

जबलपुर के बरगी से कांग्रेस से टिकट की दावेदारी करने वाले कृष्ण कुमार चौकसे ऐसे ही दावेदारों में से एक हैं, जो कई बार पार्टी मुख्यालय के चक्कर काटते नज़र आ चुके हैं। कुछ दिनों पहले कृष्ण कुमार चौकसे महामंडेश्वर लक्ष्मणदास बालयोगी के साथ राजधानी स्थित प्रदेश कांग्रेस कार्यालय पहुंचे थे।

उन्होंने बाबा के साथ कांग्रेस संगठन के पदाधिकारी से मुलाकात की। बाबा ने कृष्ण कुमार चौकसे की टिकट के लिए सिफारिश भी की। इतना ही नहीं बाबा को कार्यालय से आश्वासन भी दिया गया। साथ ही, दावेदार कृष्ण कुमार चौकसे ने यहां तक कहा कि, अगर उन्हें टिकट नहीं मिला तो बरगी विधानसभा में कांग्रेस जीत नहीं सकेगी।

दावेदारी करने वाले बाबा

वहीं, दावेदारों के लिए टिकट की सिफारिश करने के साथ साथ बाबा और साधु संत खुद भी सियासी मैदान में उतरने की इच्छा बनाए हुए हैं। कई बाबा पार्टी से टिकट की दावेदारी कर भी चुके हैं।

जिन बाबाओं ने अब तक कांग्रेस से टिकट की मांग की है उनमें उज्जैन दक्षिण से महंत अवधेशपुरी टिकट की मांग कर रहे हैं, केवलारी (सिवनी) से संत मदन मोहन खड़ेश्वरी ने टिकट मांगा है, कम्प्यूटर बाबा भी सियासत में कदम रख चुके हैं, सिलवानी से महेंद्र प्रताप गिरि ने टिकट की दावेदारी की है, उदयपुरा से रविनाथ महीवाले टिकट की मांग कर चुके हैं।

कांग्रेस की सफाई

हालांकि, मामले को लेकर कांग्रेस ने एक बार फिर स्थितिया स्पष्ट करते हुए कहा है कि, किसी भी बाबा या साधु संत की टिकट की सिफारिश करने के कोई मायने नहीं है, टिकट उन्हें ही मिलेगा टिकट उन्हीं को मिलेगा जो पार्टी सर्वे और हाईकमान तय करेंगे।

SHARE