क्रिकेट को छोड़ बीजेपी पार्टी में शामिल हो रहा है भारतीय बल्लेबाज, नाम सुनते ही राजनीति में आ गया भूचाल

हर किसी को अपने लाइफ में कुछ ना कुछ बदलाव देखने को जरूर मिलता हैं लेकिन यदि बात करे किसी क्रिकेटर की तो लोग सोचते हैं की एक क्रिकेटर जब खेलना छोडता हैं तो वह या तो कोच या अंपायर बनता हैं| अर्थात कहने का मतलब हैं की लोगों की ये धारणा होती हैं की आज का खिलाड़ी कल जाकर उसी खेल का सलाहकार बन सकता हैं|

लेकिन यह बात सही नहीं क्योंकि वर्तमान समय में क्रिकेटर राजनीति की पारी खेलना शुरू कर दिया हैं क्योंकि वर्तमान समय में क्रिकेटरों का राजनीति में आना एक ट्रेंड सा बनता जा रहा हैं| दरअसल हाल ही में हमारे पड़ोसी देश का एक क्रिकेटर उस देश का प्रधानमंत्री बन गया हैं| जी हाँ हम बात कर रहे हैं पाकिस्तानी क्रिकेटर इमरान खान की और उन्होने हाल ही में पाकिस्तान के नए मंत्री के रूप में शपथ लिया हैं|

ऐसे में भारत में भी एक क्रिकेटर का राजनीति में कदम रखने की खबर बड़ी तेजी से वायरल हो रही हैं| ये और कोई नहीं बल्कि भारतीय क्रिकेट टीम का खतरनाक सलामी बल्लेबाज गौतम गंभीर हैं और अब गौतम गंभीर क्रिकेट जगत को छोड़ कर राजनीति में पैर जमाने का फैसला किया हैं| ऐसी खबर आ रही हैं की गौतम गंभीर इस समय की सत्तारूढ़ पार्टी बीजेपी पार्टी से अपनी राजनैतिक करियर का आगाज कर सकते हैं|

ऐसा बताया जा रहा हैं की दिल्ली में होने वाले आम चुनाव में गौतम गंभीर बीजेपी के कैंडिडेट बन सकते हैं| जैसा आप अभी को मालूम हैं कि इस समय पूरे भारत में बीजेपी पार्टी का बोल-बाला हैं और देश के आधे राज्यों में बेजेपी के कैंडीडेट मुख्यमंत्री हैं| लेकिन यह भी सच हैं कि देश के हर राज्यों में अपनी पकड़ बनाने के बावजूद बेजेपी ने दिल्ली में अपनी सरकार नहीं बना पाई हैं और दिल्ली में आम आदमी पार्टी के सरकार हैं|

ऐसे में पुरे देश-विदेश में प्रसिद्ध सलामी बल्लेबाज गौतम गंभीर का बीजेपी में आना पार्टी के लिए एक संजीवनी बूटी का काम कर सकता हैं। आपकी जानकारी के लिए बता दें कि गौतम गंभीर राजनीति में आने वाले पहले क्रिकेटर नहीं हैं बल्कि उनके पहले कीर्ति आजाद, मोहम्मद अजहरुद्दीन, नवजोत सिंह सिद्धू, मोहम्मद कैफ, प्रवीण कुमार, विनोद कांबली और मंसूर अली खान पटौदी जैसे लोग भी राजनीति में अपने कदम रख चुके हैं और यदि विदेशो के क्रिकेटरों की बात करे तो अर्जुन रणतुंगा, सनथ जयसूर्या और इमरान खान जैसे क्रिकेटर भी अपने अपने देश की राजनीति में सक्रिय हैं और इमरान खान तो अपने देश के प्रधानमंत्री बन चुके हैं|

अब ऐसे में यह देखना काफी दिलचस्प होगा की मैदान पर बेहतरीन पारिया खेलने वाले गंभीर राजनीति की पिच पर कैसा प्रदर्शन करते हैं। टीम इंडिया का 2016 में आखिरी बार प्रतिनिधित्त्व करने वाले गौतम गंभीर को 2012 से किसी वन डे में अभी तक खेलने का मौका नही मिल पाया हैं।

भारतीय टिम ने टी -20 विश्व कप 2007 और विश्व कप 2011 जीता था और इस जीत में गौतम गंभीर का बहुत बड़ा योगदान था क्योंकि गौतम गंभीर एक सफल बल्लेबाज हैं| ऐसे में अब यह देखना दिलचस्प होगा की उनका राजनीती करियर कितना सफल हो पाता हैं|

SHARE