श हीद सीरिया की म स्जिदों को देख रो ए एर्दोगन, खु दा के घर का मायने समझाया

सीरिया में चल रहे गृह यु;द्ध में हर रोज नहीं तबाही का मंजर सामने आता है। हाल ही में सीरिया में चल रही जं;ग में कई मस्जिदों को तबाह किया गया है। इस मामले में तुर्की के राष्ट्रपति एर्दोगान में एक बड़ा फैसला लिया है। बताया जा रहा है कि तुर्की के राष्ट्रपति एर्दोगान को सीरिया में तबाह हुई मस्जिदों को देखकर काफी बुरा लग रहा है। इसलिए उन्होंने यह ऐलान किया है कि वह सीरिया की सभी यु;द्ध ग्रस्त इलाकों में तबाह हुई मस्जिदों का पुनर्निर्माण करवाएंगे।आपको बता दें की तुर्की मीडिया के मुताबिक सीरिया ने जो मस्जिदों को त;बाह किया है। तुर्की ने उनका पुनर्जीवन करवाने का काम शुरू भी कर दिया है। गौरतलब है कि तुर्की ने युद्ध ग्रस्त इलाकों में इस्लाम को विकृत करके फैलाए जाने वाले चर;मपंथ के खिलाफ़ शुरू की गई। लड़ाई में भी एक सहायक के तौर पर हाथ आगे किया है। आपको दीनबेट फाउंडेशन, डीआईबी( तुर्की के राज्य संचालित प्रेसीडेंसी ऑफ रिलिजनियस अफेयर्स (डीआईबी) ) से जुड़े एक एनजीओ ने सीरिया में ध्वस्त की गई मस्जिदों, धार्मिक स्कूलों और आ;तंकवादी समूहों द्वारा क्ष;तिग्रस्त इसी तरह की सुविधाओं को बहाल करने के लिए टीएल 10 मिलियन (1.61 मिलियन डॉलर) से अधिक खर्च किया है।
सीरिया में मस्जिदों के पुनर्निर्माण के लिए राष्ट्रपति एर्दोगान ने बड़ी रकम देने की पेशकश की है। इसके साथ तुर्की ने साल 2016 में आतंकवादियों को अपनी सीमाओं से दूर रखने के लिए फ्री सीरियाई सेना के साथ संचालित ऑपरेशन भी लांच किया था। जिसके चलते लगभग 3,000 आ;तंकवादियों को खत्म कर दिया गया है। गौरतलब है कि हाल ही में अब तुर्की ने सीरिया के इद्लिब से भी आ;तंकवादियों का नामोनिशान खत्म करने का दावा किया है।

जानकारी के लिए आपको बताए दें कि सीरिया में 6 साल से ज़्यादा समय से गृह युद्ध चल रहा है। जिसमें अब तक ढाई लाख से ज़्यादा लोगों की जानें जा चुकी है और अब भी किसी राजनीतिक समाधान के आसार नज़र नहीं आ रहे। लेकिन तुर्की हमेशा सीरिया में घायलों की मदद करता आया है। तुर्की के राष्ट्रपति एर्दोगान ने सीरिया के लोगों द्वारा एक मसीहा के तौर पर ही देखा जाता है। उन्होंने हमेशा इंसानियत की मिसाल देते हुए जरूरतमंदों की मदद की है।

SHARE