मचा हडकंप : इवीएम में अपने आप आ गए 50 वोट ज्यादा, हर कोई हैरान – देखें

जुन्नारदेव विधानसभा के बूथ क्रमांक 224 जमकुण्डा में हुई वोटिंग के दौरान इवीएम में 50 वोट ज्यादा आने पर हडक़म्प मच गया। एजेंट की शिकायत पर तहसीलदार और ऑब्जर्वर ने जांच की। इस पर पाया गया कि पीठासीन अधिकारी इवीएम की मॉकपोल के समय किए गए 50 वोट को हटाना भूल गए थे।

इससे उसकी भी काउंटिंग डाले गए वोट में होने से यह स्थिति बनी। जानकारी के अनुसार इस बूथ के 50 वोट का हल निकाल लिया गया है। इस बूथ में कुल 672 वोटर दर्ज थे। मतदान की शुरुआत में इवीएम की जांच के लिए 50 वोट डाले गए। पीठासीन अधिकारी ने इसे नजरअंदाज कर सीधी वोटिंग शुरू करा दी। दिनभर वोटिंग से मतदान का आंकड़ा 572 वोट पर आ गया। जबकि समीप बैठे पार्टी एजेंट के रिकॉर्ड में मतदान केवल 522 वोटरों ने किया था।

इस संदेहास्पद स्थिति की शिकायत होने पर जुन्नारदेव तहसीलदार के.आर. नीरज और पुलिस अधिकारी पहुंचे। जांच के दौरान पीठासीन अधिकारी की डायरी और मतदाता रजिस्टर के दस्तखत की जांच हुई तो मॉकपोल के 50 वोट जुड़े पाए गए। जांच अधिकारी और एजेंटों में यह सहमति बनी कि मतगणना के समय उम्मीदवारों को इस बूथ में मिले मतों से समान रूप से ये 50 वोट हटा दिए जाएंगे।

मामले को सुलझा लिया गया हैइधर, उपजिला निर्वाचन अधिकारी कविता बाटला ने भी स्वीकार किया कि ऑब्जर्वर और आरओ की जांच में मॉकपोल के समय डाले गए 50 वोट को जोड़ दिए जाने की पीठासीन अधिकारी की भूल के चलते यह स्थिति बनी। इस मसले को सुलझा लिया गया है।

SHARE