चलते चुनाव में बदली गई EVM, गुस्साए वोटरों ने किया हंगामा – देखें

मतदान के बाद बाद प्रत्याशियों की नजर परिणाम पर है। इस बीच इवीएम की सुरक्षा भी उनके लिए बड़ी चुनौती है। सतना के उत्कृष्ट विद्यालय-1 पर जिले की सातों सीटों की इवीएम रखी गई हैं। इनकी सुरक्षा के लिए तीन लेयर पर पुलिस बल व करीब दर्जनभर सीसीटीसी कैमरे लगाए गए हैं। सभी प्रत्याशियों ने भी यहां अपने-अपने प्रतिनिधि तैनात कर रखे हैं, लेकिन शुक्रवार की देर रात अचानक यहां जीप से दो लोग एक कार्टन लाते दिखे।

लेकिन पास जाकर देखने पर कुछ नजर नहीं आया। सुरक्षा में तैनात जवान भी कुछ बताने को तैयार नहीं हुए, जिसके बाद प्रत्याशी प्रतिनिधियों ने हंगामा शुरू कर दिया। सभी दलों के प्रत्याशी व प्रशासनिक अमला भी मौके पर पहुंचा। दोनों पक्षों में देर रात तक बहस होती रही। रात ११.३० बजे तक यहां सैकड़ों लोग इक्कठा हो गए और स्थिति हंगामाई हो गई। एडिशनल एसपी समझाने का प्रयास करते नजर आए। कांग्रेस का आरोप है कि सुबह ही जिला निर्वाचन अधिकारी को पिछला गेट बंद करने कहा था, लेकिन उन्होंने गंभीरता से नहीं लिया।

ऐसे बढ़ा मामला दरअसल, स्ट्रांग रूम में त्रिस्तरीय सुरक्षा घेरे में रखी इवीएम की निगरानी के लिए प्रत्याशियों के अवलोकनार्थ मतगणना स्थल पर बड़ी स्क्रीन लगाई गई है। इसमें स्ट्रांग रूम सहित स्कूल परिसर के अन्य गेट के सीसीटीवी लाइव दिखाए जा रहे हैं। रात 9 से 10 बजे के बीच स्क्रीन पर विद्यालय के पीछे वाले गेट के पास चार पहिया वाहन से दो लोग उतर कर हाथों में लकड़ी के दो कार्टन लेकर अंदर आते दिखे। कार्टन में क्या था यह जानने प्रत्याशी के समर्थक गेट की ओर गए तो वहां कार्टन नहीं दिखे।

इसके बाद आनन-फानन में इसकी सूचना प्रत्याशी को दी गई। वीडियो सोशल मीडिया में वायरल कर दिया गया। 10.30 बजे तक सतना विधानसभा से बसपा प्रत्याशी पुष्कर सिंह, सपाक्स प्रत्याशी रामोराम गुप्ता, कांग्रेस प्रत्याशी सिद्धार्थ कुशवाहा भी पहुंच गए। पुष्कर सिंह ने आरोप लगाया कि लकड़ी के कार्टन में कुछ अंदर लाया गया है। और उसमें क्या है यह कुछ पता नहीं है क्योंकि वह कार्टन गायब हो गए। उन्होंने विद्यालय के एक कर्मचारी पर भी आरोप लगाया कि वह पूरे परिसर में अंदर बाहर संदिग्ध स्थितियों में घूमता रहता है।

शिकायत के बाद भी कार्रवाई नहींयहां कांग्रेस प्रत्याशी के समर्थक ने बताया कि सुबह जिला निर्वाचन अधिकारी को पिछले गेट बंद कराने संबंधी शिकायत की गई थी। कहा गया था कि यहां से अवांछित लोगों का लगातार आना जाना लगा रहता है। लेकिन इसके बाद भी उन्होंने यह गेट बंद नहीं करवाया है।

परिसर में मचा हंगामाइधर जब सैकड़ों की तादाद में लोग इक्कठा हो गए तो यहां तरह-तरह की अफवाहों का दौर भी शुरू हो गया। कांग्रेस प्रत्याशी का समर्थक बताने वाले संजय अग्रवाल नामक युवक ने खुलेआम यह आरोप लगाया कि कार्टन में इवीएम लाई गई है। उधर उसके आरोपों का खंडन करते हुए एडीशनल एसपी ने कहा कि यह संभव ही नहीं है। यह सिर्फ हंगामा फैलाने कहा जा रहा है।

पहुंचे कलेक्टर एसपीशुरुआती दौर में लगभग आधे घंटे तक जब स्थिति हंगामाई होती रही तो यहां टीआई सिटी कोतवाली मौजूद रहे। उसके बाद एडिशनल एसपी पहुंचे। काफी देर बाद जिला निर्वाचन अधिकारी और पुलिस अधीक्षक यहां पहुंचे। इन्होंने बसपा प्रत्याशी सहित अन्य से चर्चा की और उन्हें आश्वस्त किया कि ऐसा संभव नहीं है। हालांकि इस दौरान प्रत्याशी और उनके समर्थक इस पर सवाल खड़े करते रहे कि आखिर पिछले गेट बंद क्यों नहीं कराए जा रहे हैं और गेट से अंदर क्या आया था?

SHARE