पहले चरण के बाद चुनाव आयोग ने भाजपा को दिया बड़ा झटका, भाजपा के लिए एक और बड़ी मुसीबत

लोकसभा चुनाव 2019 को लेकर चुनाव आयोग काफी सख्त हो गया है। निष्पक्ष चुनाव के लिए आयोग हर संभव कदम उठा रहा है ताकि उसके ऊपर कोई भी दल उंगली न उठा सके। पहले चरण के मतदान के बाद गुरुवार को चुनाव आयोग ने बड़ा आदेश दे दिया है। चुनाव आयोग के इस आदेश के बाद भारतीय जनता पार्टी को बड़ा झटका लग गया है।

ये है वो आदेश जिससे आई बीजेपी के लिए बुरी खबर
चुनाव आयोग ने गुरुवार को जो बड़ा आदेश दिया है वो नमो टीवी को लेकर है। इस आदेश से भारतीय जनता पार्टी को तगड़ा झटका लगा है। चुनाव आयोग ने नमो टीवी से बिना मंजूरी दिखाई जा रही हर सामग्री को फौरन हटाने का आदेश दिया है। इस सख्त आदेश के बाद नमो टीवी पर बिना किसी इजाजत के डाला गया पूरा कंटेंट हटाया जाएगा।

बिना ब्रेक के हो रहा था प्रसारण, विपक्षियों ने की थी शिकायत
नमो टीवी पर लगातार विवाद चल रहा था। विरोधी दल इसको आचार संहिता का खुलेआम उल्लंघन मान रहे थे क्योंकि इसमें बिना किसी ब्रेक के मोदी की रैलियां चल रही थीं। इतना ही नहीं मोदी की पुलरानी रैलियां और इंटरव्यू भी दिखाए जा रहे थे। आम आदमी पार्टी और कांग्रेस ने इसकी शिकायत आयोग से की थी। बुधवार को ही आयोग इसके प्रसारण पर रोक लगा चुका है।

चुनाव आयोग ने आयकर विभाग की पिछले तीन दिनों से जारी छापेमारी को कांग्रेस द्वारा सत्तारूढ़ भाजपा के उकसावे पर की गयी कार्रवाई बताये जाने संबंधी आरोपों पर संज्ञान लेते हुय राजस्व सचिव और केन्द्रीय प्रत्यक्ष कर बोर्ड (सीबीडीटी) के अध्यक्ष से विस्तृत जानकारी मांगी है। कांग्रेस ने आरोप लगाया है आयकर विभाग की छापेमारी, चुनाव के दौरान सत्तारूढ़ भाजपा द्वारा जांच एजेंसियों के दुरुपयोग का नतीजा है।

सूत्रों के अनुसार आयोग ने आयकर विभाग और सीबीडीटी की पिछले दो दिनों से चल रही छापेमारी पर संज्ञान लेते हुये यह कदम उठाया है। इस संबंध में चुनाव आयोग ने मंगलवार को सीबीडीटी के चेयरमैन पीसी मोडी और रेवेन्यू सेक्रेटरी एबी पाण्डेय को बुलाया और जानकारी मांगी। दोनों अधिकारियों ने भी छापेमारी के बारे में विस्तृत जानकारी और दस्तावेज चुनाव आयोग को सौंपे हैं।

SHARE