बालाकोट हवाई हम*ले पर नवजोत सिंह सिद्धू ने दिया तगड़ा बयान – देखें

भारतीय वायुसेना (IAF) की पाकिस्तान के बालाकोट में सर्जिकल स्ट्राइक (Balakot Air strike) में मारे गए आतं*कियों की संख्या को लेकर अब कांग्रेस नेता नवजोत सिंह सिद्धू (Navjot Singh sidhu) ने भी सवाल उठाए हैं. यह विवाद भाजपा अध्यक्ष अमित शाह (Amit Shah) के उस बयान के बाद ज्यादा गहरा गया, जिसमें रविवार को उन्होंने कहा था कि पाकिस्तान में भारतीय वायुसेना ने 250 आतं*कियों को मार गिराया. इसके बाद नवजोत सिंह सिद्धू ने कई मीडिया रिपोर्ट्स के प्रिंट स्क्रीन शेयर करते हुए ट्वीट किया है.

केंद्रीय मंत्री एसएस अहलूवालिया के बयान (‘एयर स्ट्राइक का मकसद संदेश देना था, मारना नहीं’) पर निशाना साधते हुए सिद्धू ने ट्वीट करते हुए लिखा, ‘तो मकसद क्या था? क्या आतं*कियों को मारने गए थे या पेड़ उखाड़ने? क्या यह चुनावी हथकंडा था?’ इसके अलावा एयर स्ट्राइक में मारे गए आतं*कियों की संख्या पर सिद्धू ने लिखा है,

‘300 आतं*की ढेर हुए, हां या नहीं?’ इसके साथ ही उन्होंने लिखा है, ‘सेना का राजनीतिकरण बंद किया जाए.’

दिल्ली के मुख्यमंत्री और आम आदमी पार्टी के राष्ट्रीय संयोजक अरविंद केजरीवाल ने भी मारे गए आतं*कियों की संख्या पर सवाल उठाए हैं. अमित शाह पर निशाना साधते हुए केजरीवाल ने ट्वीट किया, ‘क्या अमित शाह के मुताबिक सेना झूठ बोल रही है? सेना ने साफ-साफ कहा है कि कोई मरा या नहीं मरा या कितने मरे, ये नहीं कहा जा सकता. अपने चुनावी फायदे के लिए क्या अमित शाह और भाजपा सेना को झूठा बोल रहे हैं? देश को सेना पर भरोसा है. क्या अमित शाह और भाजपा को सेना पर भरोसा नहीं?’

वहीं, भारतीय वायुसेना द्वारा बालाकोट में की गई एयर स्ट्राइक के सूबत मांगने वालों को आम आदमी पार्टी के नेता डॉ. कुमार विश्वास ने नसीहत दी है. उन्होंने कहा है कि ऐसी आत्म-दीपित ‘सुहागरातों’ के सबूत नहीं मांगे जाते. उन्होंने ट्वीट करते हुए लिखा है, ‘सैनिक के लिए शत्रु पर आक्रमण उसके पराक्रम-प्रदर्शन की सौभाग्य-रात्रि होती है! ऐसी आत्म-दीपित “सुहागरातों” के सबूत न तो मांगे जाते है और न ही दिए जाते हैं! कुछ महीनों में ये जगभर को स्वयं ही ज्ञापित हो जाते हैं.’

SHARE