मोदी लहर को रोकेगी प्रियंका की आंधी ?, भाजपा में मची अफरा-तफरी – देखें

कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गाँधी ने अपनी बहन प्रियंका गांधी को पार्टी में महासचिव पद की जिम्मेदारी सौंपी है। साथ ही प्रियंका को पूर्वी उत्तर प्रदेश का प्रभारी बनाया गया है। पूर्वी यूपी में ही पीएम मोदी की हाई प्रोफाइल वाराणसी लोकसभा सीट आती है। प्रियंका के अधिकारिक तौर पर राजनीति में आने के बाद सियासी अटकलों के बीच मीडिया में चर्चाओं का दौर जारी है। इस बीच ABP सी वोटर का प्रियंका गांधी को लेकर सर्वे आया है। सर्वे प्रियंका गांधी के वाराणसी से नरेन्द्र मोदी के खिलाफ चुनाव लड़ने को लेकर किया गया है।

इसके मुताबिक जिन लोगों ने सर्वे में भाग लिया है उनमें से 60% लोग पुख्ता तौर पर ये मानते हैं कि प्रियंका गांधी को नरेन्द्र मोदी के खिलाफ वाराणसी से लोकसभा चुनाव लड़ना चाहिए।
शिवसेना ने की प्रियंका गांधी की तारीफ, कहा- प्रियंका में हैं दादी ‘इंदिरा’ के गुण, कांग्रेस को ज़रूर होगा फ़ायदा

सर्वे में 32% लोगों का मानना है कि प्रियंका को वाराणसी से चुनाव नहीं लड़ना चाहिए ये उनके लिए घातक हो सकता है। वहीं 8% लोगों का इसपर कोई मत नहीं है। बता दें कि प्रियंका गांधी को कांग्रेस महासचिव बनाए जाने से यूपी की राजनीती में बड़ा बदलाव देखने को मिल रहा है। इसको लेकर ठंडे पड़े प्रदेश के पार्टी कार्यकर्ताओं में भारी उत्साह देखने को मिल रहा है। साथ ही कांग्रेस बीजेपी के सवर्ण वोटों में सेंधमारी करने के लिए प्रियंका पर बड़ा दावं खेला है।

राहुल गांधी ने पश्चिम उत्तर प्रदेश के प्रभारी के तौर पर ज्योतिरादित्य सिंधिया और पूर्वी उत्तर प्रदेश के लिए प्रियंका के नाम की घोषणा करने के तुरंत बाद दावा किया कि, अब यूपी में भी कांग्रेस फ्रंटफुट पर खेलेगी! प्रियंका गांधी की एंट्री को पात्रा ने बताया परिवारवाद, अलका बोलीं- लगता है कांग्रेस का तीर 56 इंच के सीने पर जा लगा है

क्या प्रियंका गांधी का उत्तर प्रदेश की राजनीति में उतरना, और यहाँ से वाराणसी से पीएम मोदी के खिलाफ चुनाव लड़ने की अटकलें आना कांग्रेस को यूपी में कांग्रेस को बड़ी ताकत दे पाएंगी? यह बड़ा सवाल है जिसका जवाब 2019 का लोकसभा चुनाव ही दे पाएगा।

SHARE