रोज़े से पहले सऊदी ने भारतियों को दिया ऐसा तोहफा, जो किसी खजाने से कम नहीं है

अगले महीने दुनिया भर में रमजान का पाक महीना शुरू होने वाला है रमजान के महीने में इस्लाम धर्म से जुड़े लोग सऊदी अरब के पवित्र शहर मक्का के लिए जाते हैं। गौरतलब है कि मक्का में लोग हज यात्रा की रसम को अदा करने के लिए जाते हैं। इस्लाम में कहा गया है कि हर शख्स जो कि मुसलमान है उसे जिंदगी में एक बार हज जरूर करना है। हालांकि अगर कोई शख्स आर्थिक पक्ष से मजबूत ना हो तो उसे हज करना नसीब नहीं भी हो पाता है लेकिन हर मुसल मान के दिल में यह हसरत जरूर होती है कि वह जिंदगी में एक बार हाथ जरूर जाए।
आपको बता दें कि भारत से हर साल लाखों मुसलमान हज की यात्रा के लिए सऊदी अरब के शहर मक्का और मदीना में जाते हैं। ऐसे में सऊदी अरब सरकार के लिए भारी मात्रा में मक्का पहुंचने वाले यात्रियों के लिए हर तरह की चीज का प्रबंध करना बहुत बड़ी बात मानी जाती है। आपको बता दें कि सऊदी अरब की हुकूमत हर साल मक्का में लोगों के लिए खाने-पीने दवाइयों रहने का इंतजाम करती है।आपको बता दें कि इस साल की हज यात्रा के लिए सऊदी अरब की सरकार ने नए कानून लागू किए हैं। इस बार सऊदी सरकार की तरफ से अलग-अलग देशों के लिए हज यात्रा के लिए कोटा तय कर दिया गया है। जिसके तहत सऊदी सरकार यह तय करेगी कि इस साल देश के कौन से हिस्से से कितने लोग हज यात्रा को आ सकते हैं। आपको बता दें कि इस बार भारत से हज यात्रा पर जाने वाले मुसलमानों के लिए खुशी की खबर सामने आई है। बताया जा रहा है कि सऊदी हुकूमत ने इस साल भारत के लिए हज यात्रा पर जाने वाले यात्रियों का कोटा बढ़ा दिया है।यह कोटा पड़ोसी मुल्क पाकिस्तान से ज्यादा कर दिया गया है। खबर के मुताबिक इंडोनेशिया के बाद भारत ऐसा दूसरा देश होगा जहां से इतनी बड़ी तादाद में मुस्लिम लोग हज यात्रा के लिए सऊदी अरब के शहर मक्का में जा सकेंगे। गौरतलब है कि साल 2017 में भारत सरकार द्वारा हज यात्रा पर जाने वाले मुसलमानों को मिलने वाली सब्सिडी भी खत्म कर दी गई थी। बीते साल हज यात्रा के लिए भारत से 2 लाख से ज्यादा लोग गए थे। सऊदी सरकार द्वारा लिए गए फैसले के बाद माना जा रहा है की इस बार का हज और दिलचस्प होने वाला है।

SHARE